ग्वालियर शहर में खेत धरना आयोजित

ग्वालियर। भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रदेश में किसानों की बदहाली, कर्जमाफी, अतिवृष्टि मुहावजा और यूरिया खाद्य की कमी एवं कालाबाजारी के विरोधस्वरूप प्रदेशव्यापी खेत धरना शनिवार को लक्ष्मीगंज गल्लामंडी में किसान मोर्चा द्वारा आयोजित प्रदर्शन को जिलाध्यक्ष देवेश शर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को भरपूर मात्रा में यूरिया, खाद देने के बाद भी मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार किसानों को नहीं दे रही है ऐसा क्यूं? भरपूर मात्रा में यूरिया है, खाद है पर किसानों को नहीं मिल रहा, अगर मिल भी रहा है तो अधिक दामों में मिल रहा है। किसानों की कमर तोडऩे का काम कमलनाथ सरकार कर रही है।  
श्री शर्मा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी आंदोलन के माध्यम से गूंगी बहरी कमलनाथ सरकार को जगाने का काम कर रही है। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार यदि कोई काम कर रही है तो केवल ठेले वालों की गुमटी हटाने का काम कर रही है, डॉक्टर के अस्पताल को तोडऩे का काम कर रही है। कांग्रेस राज्य में मंत्री, विधायक लूट सके तो लूट की होड़ में लगे हुए हैं। कमलनाथ कह रहे थे कि शहर के भूमाफिया नहीं बचना चाहिए, पर कांग्रेस अपने गिरेबान में झांक कर तो देखें, कितने भू माफिया हैं, नहीं तो हम कांग्रेस के भू माफियाओं की लिस्ट देते हैं जो हमारे पास भी है। किसान परेशान है हाल से बेहाल है कोई सुनवाई नहीं है विधायक मंत्री दोनों हाथ से लूटने में लगे हुए हैं। भारतीय जनता पार्टी आज खेत धरने के माध्यम से कमलनाथ सरकार को जगाना चाहती है जो वादे किसानों से किए हैं उन्हें पूरा करो नहीं तो आपको कुर्सी पर रहने का कोई अधिकार नहीं है।
मध्यप्रदेश की पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह ने प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस को प्रदेश में सत्ता में आए हुए एक साल हो चुके हैं, लेकिन सालभर में कांग्रेस ने एक भी ऐसा काम नहीं किया, जो उनके घोषणा पत्र में था। अपने वचन पत्र में बड़े-बड़े वायदे करके व झूठ के सहारे कांग्रेस प्रदेश की सत्ता पर काबिज हुई। अब सरकार सब वायदे भूल गई है। पूरे प्रदेश में हाहाकार मचा हुआ है। मंत्री-विधायक लूट खसोट में लगे हैं। तबादला व अवैध खनन उद्योग शुरू हो गया है। बिजली कटौती से ग्रामीण क्षेत्र की जनता त्रस्त है। यूरिया के लिए किसानों को लाठियां खानी पड़ रही है। किसानों का कर्ज माफ करने का जो वादा किया था, उससे सरकार मुकर गई है। अतिवृष्टि से तबाह हुए किसानों को मुआवजा नहीं दिया गया। कमलनाथ सरकार को प्रदेश की जनता की बिलकुल भी चिन्ता नहीं है। वह जनता के साथ धोखा कर रही है। प्रदेश का किसान यूरिया के लिए दिन-रात परेशान हैं। इन किसानों की समस्या सुलझाने की बजाय प्रदेश सरकार दिल्ली में प्रदर्शन करने में मस्त है। आज के खेत धरना प्रदर्शन को पूर्व मंत्री ध्यानेंद्र सिंह, जिला उपाध्यक्ष अशोक जादौन, किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष भरत दांतरे ने भी संबोधित किया।
इस अवसर पर जिला महामंत्री कमल माखीजानी, जयप्रकाश राजौरिया, सभापति राकेश माहौर, जिलामंत्री दीपक शर्मा, विनोद शर्मा, प्रमोद खंडेलवाल, गंगाराम बघेल, रमेश सेन, जयंत शर्मा, प्रयाग तोमर, चेतन मंडलोई, बृजमोहन शर्मा, विकास गिरि, विवेक प्रताप सिंह चैहान, नूतन श्रीवास्तव, धर्मेंद्र कुशवाह, अरूण कुशवाह, चेतन सोनी, संतोष गोडयाले सहित सैकडों कार्यकर्ता मौजूद थे।