कोटा से भागकर आईं 15 वर्षीय नाबालिग को मामा को सौंपा

ग्वालियर। कोटा से ग्वालियर के बिरला नगर स्टेशन पर गुमशुम बैठी 15 वर्षीय नाबालिग आरपीएफ के गश्ती दल को मिली। नाबालिग ने गश्तीदल को बताया कि वह भिण्ड की रहने वाली है और वह अपने घर नहीं जाएगी। परिजनों से बात कर मिली नाबालिग को रात में ही आरपीएफ ने ग्वालियर में रहने वाले उसके मामा के सुपुर्द कर दिया।
बिरलानगर स्टेशन पर राहगीरों ने एक नाबालिग को सूनसान पड़े प्लेटफार्म पर बैठा देख तत्काल आरपीएफ को सूचना दी। आरपीएफ का
गश्ती दल नााबलिग के पास पहुंचा। नाबालिग ने अपना नाम अनामिका पुत्री इंदल सिंह नरवरिया भिण्ड निवासी होना बताया। साथ ही अनामिका ने बताया कि वह कोटा से ग्वालियर आई है और वह अपने परिजनों के साथ रहना नहीं चाहती है। उससे मिले पिता के मोबाइल पर आरपीएफ ने बात कर अनामिका के ग्वालियर में होने की जानकारी दी। पिता इंदल सिंह ने ग्वालियर स्थित यादव धर्मकांटा के पास रहने वाले नाबालिग के मामा को अनामिका को सौंपने का निवेदन आरपीएफ टीआई एएस पाण्डे से किया। पिता इंदल की सूचना पर साले शरण सिंह नरवरिया रात में ही आरपीएफ थाने पहुंचे और अपना परिचय पहचान दस्वावेज प्रस्तुत करने पर अनामिका को उनकी सुपुर्दगी में सौंप दिया।