Contact Information

सुबह 9 से पहले नहीं खुलेंगे स्कूल, आदेश जारी

ग्वालियर। दिंसबर माह के दूसरे पखवाड़े की शुरूआत में हाड़ कंपाने वाली सर्दी से जिले में लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। पिछले दो-तीन दिन से तापमान में ज्यादा गिरावट आई है। सुबह के समय हल्का कोहरा छाना शुरू हो गया है वहीं दिन में गलन व रातें
ज्यादा ठण्डी होने लगी है। जिसके चलते लोगों की दिनचर्या, पहनावे व खानपान में परिवर्तन आया है। सोमवार को शहर सहित जिले भर में सुबह से रात तक सर्दी का जोर रहा। सुबह रही ठिठुरन के बीच स्कूली बच्चें ठिठुरते हुए घरों से निकले। वहीं कलेक्टर अनुराग चौधरी ने जिला शिक्षा अधिकारी को आदेश जारी कर कहा है कि सुबह 9 बजे से पहले कोई भी विद्यालय नहीं खुलें। सुबह काम
पर निकलने वालों लोगों को भी शॉल पहनकर घरों से निकलना पड़ा। वहीं ग्रामीण अंचलों में देर सुबह तक कोहरा का साया कायम रहा।  सर्दी शुरु होने के साथ ही शहर में अलाव जलने शुरू हो गये है, वही गर्म कपड़ों की बिक्री भी बढऩे लगी है। गर्म कपड़ों की दुकानों पर लोगों की भीड़ जुटने लगी है। लोग अपनी जरुरत व पसंद के अनुसार कपड़े खरीदने आ रहे है।
शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में सर्दी का प्रभाव बढऩे से लोगों को अच्छी खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोग सर्दी से बचने सडक़ पर अलाव जला रहे हैं, लेकिन बर्फीली सर्दी से उन्हें राहत नहीं मिल रही है। इसके साथ ही लोग घरों से आवश्यक काम पडऩे पर ही बाहर निकल रहे हैं।
वाहन नहीं दिखे सडक़ पर
कोहरे के असर से बिगड़े हालात के कारण शहर और हाइवे की सडक़ों पर वाहन नदारद दिखे। दृश्यता घट जाने के कारण हालात यह थे कि शहर के ही गांधी रोड, रेसकोर्स रोड, झांसी रोड, एबी रोड पर सामने का सीन दिखाई न देने के कारण चालकों ने वाहनों को सडक़ किनारे खड़ा कर दिया और सुबह दस बजे के बाद ही स्टेयरिंग संभाली। इधर शहर के भीतर भी चार पहिया वाहन चलाने में ओस और कोहरे के कारण काफी दिक्कत आती रहीं।
तेज सर्दी और सूरज के दबे रहने के कारण सर्दी का अहसास और अधिक सता रहा है। जिससे शहर का जनजीवन आज पुरी तरह से ठप्प दिखाई दिया। लोग सुबह 11 बजे के बाद ही घरों से निकले, वह भी तब जबकि जरूरी काम था, बाजारों और शहर के व्यस्त मार्गों की गहमा गहमी पर भी गुलाबी भरी ठंड का असर साफ दिखाई दिया।
सुबह खुल जाने वाली दुकानों के शटर भी दो से तीन घंटे बिलंव से ही खुले। कोहरे ने अपना प्रभाव देर रात से ही दिखाना शुरु कर दिया था, जिसने सुबह तक ऐसी जगह बनाई कि सुबह जब लोगों ने घर के दरवाजे खोले तो सामने के दृश्य की जगह घने कोहरे की दीवार के अलावा कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। यही नहीं सर्दी से बचने के लिए दिन में ही शहर में जगह-जगह लोग आग जलाकर ठंड से बचने का प्रयास करते दिखे।